तारकेश कुमार ओझा की कविता : “घर में रहता हूं”

हिंदी कविताएं

“घर में रहता हूं”

लॉक डाउन है,
इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .
बाल – बच्चों को निहारता हूं,
लेकिन आंखें  मिलाने से कतराता हूं .
डरता हूं, थर्राता हूं .
लॉक डाउन है,
इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .
बिना किए अपराध बोध से भरे हैं सब
इस अंधियारी रात की सुबह होगी कब .
मन की किताब पर नफे – नुकसान का  हिसाब लगाता हूं .
लॉक डाउन है, इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .
सामने आई थाली के निवाले किसी तरह हलक से नीचे उतारता हूं .
डरता हूं , घबराता  हूं, पर सुनहरे ख्वाब से दिल को भरमाता हूं .
लॉक डाउन है, इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .

तारकेश कुमार ओझा
Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + eighteen =