मेलबर्न : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग ने एंड्रू फ्लिंटॉफ के एक ओवर को अपने करियर का सबसे सर्वश्रेष्ठ ओवर करार दिया है। 2005 की एशेज सीरीज के एजबेस्ट टेस्ट में फ्लिंटॉफ ने पॉन्टिंग को काफी परेशान किया था। इस ओवर में पॉन्टिंग बिलकुल भी सहज नजर नहीं आ रहे थे। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान को फ्लिंटॉफ ने ओवर की आखिरी गेंद पर आउट किया था। संयोग की बात यह है कि फ्लिंटॉफ ने उस ओवर में एक नो-बॉल फेंकी थी और इस लिहाज से वह ओवर की सातवीं गेंद हो गई थी। पॉन्टिंग ने इंग्लैंड क्रिकेट के ट्वीट पर जवाब दिया- ‘एक क्लासिक  रिवर्स स्विंग जिसकी रफ्तार 90 मील प्रति घंटे से ज्यादा थी।’ इंग्लैंड क्रिकेट ने इस विडियो के साथ कैप्शन दिया था- क्या रोंगटे खड़े होने के लिए कोई इमोजी होता है। इससे पहले रिकी पॉन्टिंग ने कहा था कि एशेज 2005 की सीरीज सर्वकालिक बेस्ट सीरीज में शामिल है। हालांकि इस सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को हार का सामना करना पड़ा था। इंग्लैंड ने माइकल वॉनर की कप्तानी में एशेज जीती थी। पॉन्टिंग ने ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर के साथ इंस्टाग्राम पर बातचीत के दौरान कहा था- ‘एशेज सीरीज में खेलना बचपन से मेरा सपना था। मैंने आठ या नौ एशेज सीरीज खेली हैं और उन्हें लेकर मेरी कई यादें हैं। उनमें से कुछ अच्छी हैं और कुछ नहीं।’

फ्लिंटॉफ ने बदल दिया था मैच का रुख
ऐंड्रू फ्लिंटॉफ ने उस मैच को अपने दम पर बदलकर रख दिया था। उन्होंने मैच की दोनों पारियों में हाफ सेंचुरी लगाई। दूसरी पारी में उनके रन और ज्यादा मायने रखते थे क्योंकि इंग्लैंड की टीम 182 रन पर ऑल आउट हो गई थी। इसके अलावा अपनी गेंदबाजी से उन्होंने कमाल दिखाते हुए मैच में सात विकेट भी लिए थे। इंग्लैंड ने यह मैच दो रन से जीता था।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 − 1 =