कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को केंद्र सरकार के पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को भविष्य में लागू करने के प्रयास को लेकर आगाह किया। उन्होंने कहा कि मतदाता सूची में लोग यह सुनिश्चित करें कि उनका नाम उसमें सही तरीके से लिखा हो जिससे उन्हें हिरासत केंद्र में न भेजा जा सके। बनर्जी ने कहा,“यह एनआरसी का खेल दोबारा शुरू हो गया है। इस मंच से, मैं बंगाल में रहने वाले सभी निवासियों से सावधान रहने के लिए कह रही हूं क्योंकि भविष्य में केंद्र सरकार कह सकती है की तुम्हारा नाम एनआरसी में नहीं है और वे आपको हिरासत केंद्र में भेज सकते हैं।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार इस गलत मुद्दे को पूरा नहीं होने देगी। उन्होंने लोगो से मतदान केंद्र जाकर मतदान सूची में अपना नाम दर्ज कराने का आग्रह किया। उन्होंने लाभार्थियों को जमीन के मालिकाना हक के दस्तावेज सौंपने को लेकर आयोजित कार्यक्रम में कहा,“सुनिश्चित करें की आपका नाम मतदान सूची में सही हो। यह पता करें की एनआरसी की आड़ में केंद्र सरकार ने आपका नाम सूची से तो नहीं हटा दिया। मतदान केंद्र जाएं और अपना नाम देखें।

बनर्जी ने कहा कि वह लोगों को आगाह कर रही हैं क्योंकि असम में एनआरसी सूची में से बहुत सारे नाम हटा दिए गए हैं। उन्होंने कहा,“हमने तब भी आंदोलन किया था और आज भी मैं दोहराती हूं कि मैं एनआरसी की निंदा करती हूं।” ममता ने नरेंद्र मोदी का नाम लिए बिना कहा कि वह वर्ष 1971 से पहले बंगलादेश से अपना सबकुछ खोकर आए लोगों के समर्थन की वजह से प्रधानमंत्री बने हैं। इन लोगों को अब बताया जा रहा है कि वे हमारे देश के नागरिक नहीं हैं। अगर ऐसा है तो ये लोग कैसे बाहर गए और आपको वोट दिया।”

आज आप दावा कर रहे हैं कि आप इन लोगों को नागरिकता देंगे। क्या यह उन लोगों के लिए अपमानजनक नहीं है जो यहां काम करते हैं और उनके बच्चे यहां स्कूलों में पढ़ते हैं। इन लोगों के पास पहले से ही आधार कार्ड है, उनके पास राशन कार्ड है और उनके पास मतदाता पहचान पत्र हैं।” इस साल 18 साल के होने वाले लोगो को भी मतदान केंद्र पर जाना चाहिए और सुनिश्चित करें कि उनका नाम मतदाता सूची में आ गया है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven − seven =