सुधीर श्रीवास्तव, गोरखपुर । दिनांक 23/5/2022 को सामाजिक संस्था “प्रयास एक परिवर्तन का” परिवार द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कवियों सुरेश अवस्थी, मंजीत सिंह व सत्यपाल सत्यम को सम्मानित किया गया। ‘प्रयास एक परिवर्तन का’ परिवार के संयोजक प्रवीण कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि प्रयास एक परिवर्तन का, परिवार द्वारा गोरखपुर में आयोजित कवि सम्मेलन में आये इन तीनों अंतर्राष्ट्रीय कवियों सुरेश अवस्थी, मंजीत सिंह, एवम सत्यपाल सत्यम का अंग वस्त्र एवम स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।

इस विशेष अवसर पर गुरुद्वारा जटाशंकर में प्रवीण कुमार श्रीवास्तव ने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष सरदार जसपाल सिंह, मैनेजर राजिंदर सिंह, जगनैन सिंह नीटू, अशोक मल्होत्रा के साथ अंतराष्ट्रीय शायर डॉ. कलीम कैंसर, शायरा नुसरत अतीक, अरशद के साथ किया। वरिष्ठ कवि सुरेश अवस्थी ने गोरखपुर में गत वर्षो में लगातार किये जा रहे साहित्यिक व सांस्कृतिक आयोजनों की सराहना की व नवोदित साहित्यकारों, रंगकर्मी व संगीतकर्मियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी।

डॉ. कलीम कैंसर ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय पटल पर अपनी विशिष्ट पहचान बना चुके इन कवि लोगों में इतनी सादगी है कि जो सफलता प्राप्त कर ऊँचाई पर पहुँचने वालों में साधारणतः नही रहती, ऊपर वाला इन्हें इसी प्रकार सफलता प्रदान करते हैं। सरदार जसपाल सिंह ने सभी कवियों एवम अन्य लोगों को गुरुद्वारा में मत्था टेकने के बाद सिरोपा प्रदान किया एवम प्रबंधक कमेटी की तरफ से स्वागत किया।
शायरा नुसरत अतीक ने सभी को अपने गज़ल, गीत, मुक्तक संग्रह, एहसास की अमरबेल, प्रदान किया एवं कहा कि जिस प्रकार से साहित्य से जुड़े लोगों का स्नेह मिल रहा है, हम हमेशा उस समृद्ध संबंधों को बनाये रखने का प्रयास करेंगें।
हास्य कवि मंजीत सिंह ने कहा कि गोरखपुर शहर में हमेशा से स्नेह मिलता रहा है, मैं अपनी तरफ से किसी भी साहित्यिक आयोजनों में हर प्रकार के सहयोग के लिए उपलब्ध रहूँगा व आप सभी से मिले स्नेह को हमेशा याद रखूँगा। मैं शहर के लोगों के मिले स्नेह व आशीर्वाद से अभिभूत हूँ। जगनैन सिंह नीटू ने बताया कि जिन कवि लोगों की कविताओं को कवि सम्मेलन व अन्य माध्यमों से सुनते थे, आज उनको सामने बैठकर पारिवारिक माहौल में मिलना, सुनना अविस्मरणीय है।

प्रवीण कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि आने वाले समय में एक राष्ट्रीय कवि सम्मेलन आयोजित करने का प्रयास किया जायेगा, जिसमें ज्यादा से ज़्यादा साहित्यिक संस्थाओं के साथ-साथ सामाजिक संस्थाओं की भी सहभागिता रहे। इतने कम समय के लिए शहर में होने व कार्यक्रम में व्यस्तता के बाद भी आप लोगों ने समय निकाला व हम लोगों द्वारा किये जा रहे सेवा कार्यों की सराहना की व अनवरत सफलता के लिए जो शुभकामनाएं दीं, वो निश्चय ही हमें समाज के लिए बेहतर करने की प्रेरणा प्रदान करेगी व अगली बार कई संस्थाओं से जुड़े लोग आप सबसे मुलाकात करेंगे व कवि सम्मेलन व अन्य आयोजन की रूपरेखा तैयार की जायेगी। भगवान जगन्नाथ जी आपको सफलता प्रदान करने के साथ-साथ आपकी सरलता भी बनाये रखें, हम सब ऐसी कामना करते हैं।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × five =