कोलकाता। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) तृणमूल कांग्रेस के विधायक माणिक भट्टाचार्य से पूछताछ कर रहा है। भट्टाचार्य बुधवार सुबह यहां ईडी कार्यालय में पेश हुए। शिक्षक भर्ती घोटाले में कथित संलिप्तता के बारे में पूछताछ के लिए पश्चिम बंगाल माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व प्रमुख एवं नदिया जिले के पालाशीपाड़ा से विधायक भट्टाचार्य को तलब किया गया है। केंद्रीय एजेंसी के एक सूत्र ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि ईडी अधिकारी पश्चिम बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के बेलघरिया इलाके में स्थित फ्लैट में तलाशी अभियान चलाने का इंतजार कर रहे हैं।

सूत्रों ने बताया कि अर्पिता के इस फ्लैट की चाबियां उपलब्ध नहीं हैं और ईडी अधिकारी आसपास किसी चाबी वाले का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्रीय पुलिस के कर्मी इमारत के भूतल पर इंतजार कर रहे हैं जबकि कस्बा स्थित अर्पिता के अन्य फ्लैट में तलाशी अभियान जारी है। सूत्रों ने बताया कि भट्टाचार्य को ईडी के सॉल्टलेक में सीजीओ परिसर स्थित कार्यालय में दोपहर 12 बजे पहुंचने को कहा गया था, लेकिन वह सुबह 10 बजे ही वहां पहुंच
गए। केंद्रीय एजेंसी के अधिकारियों ने 22 जुलाई को भट्टाचार्य के आवासीय परिसर की तलाशी ली थी और उन्हें एजेंसी के समक्ष पूछताछ के लिए पेश होने को कहा था।

इस बीच, सूत्रों ने बताया कि पश्चिम बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी को चिकित्सकीय जांच के लिए जोका में ईएसआई अस्पताल ले जाया गया। बाद में दोनों को पूछताछ के लिए वापस ईडी कार्यालय लाया गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने मुखर्जी के परिसरों पर शनिवार को छापेमारी में 20 करोड़ रुपये से अधिक की नकदी, गहने और विदेशी मुद्रा जब्त की थी।

सरकारी स्कूलों और सहायता प्राप्त स्कूलों में हुए कथित शिक्षक भर्ती घोटाले के वक्त चटर्जी के पास शिक्षा विभाग का प्रभार था। बाद में उनसे यह विभाग ले लिया गया। प्रवर्तन निदेशालय ने उन्हें मामले में शनिवार को गिरफ्तार किया था। मंत्री और उनकी सहयोगी को तीन अगस्त तक प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में भेजा गया है। प्रवर्तन निदेशालय स्कूल सेवा आयोग द्वारा की गई शिक्षकों की भर्ती में कथित अनियमितता के आरोपों की जांच कर रहा है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 − 5 =