घर का दायित्व, कमज़ोर होने न दे
कष्ट हो, पर पिता को वो रोने न दे
नींद से आँखें बोझिल भले हों मगर
अपनों के सपनों का बोझ सोने न दे

डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 1 =