कोरोना की दूसरी लहर के बावजूद एडिलेड में ही होगा पिंक-बॉल टेस्ट

प्रतीकात्मक फोटो, साभार : गूगल
नयी दिल्ली :  क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) ने कहा है कि वह यह सुनिश्चित करके चल रहा है कि कोरोना वायरस के दूसरी लहर के बावजूद भारत और आस्ट्रेलिया के बीच पहला टेस्ट मैच एडिलेड में ही खेला जाएगा, जोकि दोनों टीमों के बीच दिन-रात का पहला टेस्ट मैच होगा। क्रिकब्ज की रिपोर्ट के अनुसार, एडिलेड में कोरोना के मामले अचानक बढ़ने लगे हैं और इससे 17 दिसंबर से शुरू होने वाले पहले टेस्ट मैच पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। लेकिन सीए ने स्पष्ट कर दिया है कि वो अभी भी दोनों टीमों के बीच होने वाले ऐतिहासिक दिन-रात टेस्ट मैच की तैयारियों में जुटा हुआ है और यह सही दिशा में आगे बढ़ रही है।
एडिलेड में कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण कुछ अन्य राज्यों को इसे महामारी का हॉटस्पॉट घोषित करना पड़ा है। एडिलेड में कोरोना के मामलों में अचानक बढ़ोतरी देखी गई है। यहां पर सोमवार को ही कोरोना के मामले चार से बढ़कर 18 तक पहुंच गए हैं।

वेस्टर्न आस्ट्रेलिया, तस्मानिया और द नॉर्थन टैरीटरी की सरकारों ने अपनी सीमाओं को बंद करने का फैसला किया है। वहीं क्वींसलैंड ने एडिलेड से आने वाले लोगों के लिए दो सप्ताह का क्वारंटीन का नियम बनाया है।

इस नियम का मतलब है कि एडिलेड में खेले गए मार्श शेफील्ड शील्ड मैच में हिस्सा लेने वाले वेस्टर्न आस्ट्रेलिया के सभी खिलाड़ियों को दो सप्ताह के लिए सेल्फ आइसोलेशन में रखना होगा। इसका मतलब है कि आस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान पेन और विकेटकीपर बल्लेबाज मैथ्यू वेड और तस्मानिया की टीम के बाकी के सदस्यों को भी आइसोलेशन में जाना होगा।

भारतीय टीम इस समय आस्ट्रेलिया में ही है और दो सप्ताह का क्वारंटीन पीरियड निकाल रही है। टीम का क्वारंटीन का पांचवां दिन है यह 27 नवंबर को होने वाले पहले वनडे मैच से एक दिन पहले समाप्त होगा।

हालांकि अच्छी बात यह है कि न्यू साउथ वेल्स और विक्टोरिया ने अपनी-अपनी सीमाओं को खोले रखने का फैसला किया है। न्यू साउथ वेल्स की प्रमुख ग्लैडी बेरेजिकिलयन पहले ही यह कह चुकी है कि हम सबको वायरस के साथ जीने की जरूरत है और इस बात की कोई उम्मीद नहीं है कि इस मामले में कोई बदलाव होगा।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × three =