भारत में डीरिवाज़ एंड आइव्स की पहली ऑनलाइन फाइन आर्ट ऑक्शन

DI.01-N.S.-Bendre-lot25-1988-Untitled-Oil on canvas-89.3x128cm
  • 21 और 22 जनवरी को बोली के लिए खुली, जिसमें उच्च गुणवत्ता वाली कलाकृतियां शामिल हैं
  • नया लॉन्च किया गया आर्ट ऑक्शन हाउस डीरिवाज़ एंड आइव्स ने कलाकारों को बढ़ावा और सुरक्षा देने के लिए आर्टिस्ट रीसेल रॉयल्टी (एआरआर) फ्रेमवर्क पेश किया
  • ‘इंडियन मॉडर्न फाइन आर्ट्स’ की थीम वाली ऑक्शन में भारतीय कला के अग्रणी आधुनिक उस्तादों की कुछ दुर्लभतम कृतियों का प्रदर्शन किया जाएगा

कोलकाता : डीरिवाज़ एंड आइव्स, एक नया लॉन्च किया गया आर्ट ऑक्शन हाउस, अपने उद्घाटन और इस साल की पहली आर्ट ऑक्शन की मेजबानी करेगा, जिसका विषय ‘इंडियन मॉडर्न फाइन आर्ट्स’ होगा। ऑनलाइन ऑक्शन www.derivaz-ives.com (डीरिवाज़ एंड आइव्स के वेबसाइट) पर 21 और 22 जनवरी को सुबह 10 बजे से रात 8 बजे (आईएसटी) के बीच खुली रहेगी।

अग्रणी आधुनिक उस्तादों जैसे जामिनी रॉय, एन.एस. बेंद्रे, एस.एच. रज़ा, एफ.एन. सूजा, एम.एफ. हुसैन, वी.एस. गायतोंडे, जहांगीर सबावला, अकबर पदमसी, प्रभाकर बरवे, गणेश पाइन सहित अन्य के ललित कला के चयन किये गए शीर्ष 30 लॉट ऑनलाइन बोली के लिए खुले रहेंगे। इनमें इन कलाकारों की कुछ दुर्लभतम कृतियाँ शामिल हैं, साथ ही एस.एच. रज़ा के शताब्दी वर्ष पर हाईलाइट किये गए उनके कृतियाँ भी शामिल हैं।

DI.01-Jamini-Roy-lot2-nd (ca. 1944-47)-Christ’s Body with the Virgins-Tempera on canvas-73.7×119.3cm

पिछले साल रिकॉर्ड बिक्री के बावजूद, भारतीय कला बाजार ने पिछले बीस वर्षों में अपनी मामूली वैश्विक स्थिति में मुश्किल से बदलाव किया है। यहां तक कि अपने स्वयं के वैश्विक जीडीपी (3.2%) के सापेक्ष भारतीय कला बाजार को जिस स्थिति में होना चाहिए, यह डॉलर पर मुश्किल से 10 सेंट है। उदाहरण के लिए, वैश्विक कला बाजार लगभग 55 बिलियन अमेरिकी डॉलर है और भारतीय कला बाजार लगभग 185 मिलियन अमेरिकी डॉलर (1400 करोड़ रुपये) है, इससे भारत के मामूली हिस्से और भूमिका को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।

2000 के बाद से चीन की विशाल वृद्धि की तुलना में विफलता स्पष्ट है, क्योंकि चीन का आज दुनिया के कला बाजार में लगभग 26% हिस्सा है। भारतीय कला और कलाकारों में आत्मविश्वास और आस्था की नई भावना के साथ इस परिदृश्य में बड़े भारतीय कला बुनियादी ढांचे का विकास अधिक महत्वपूर्ण है।डीरिवाज़ एंड आइव्स ने अगले 30 दिनों में तीन और ऑनलाइन ऑक्शन की व्यवस्था की है, जो कला संग्राहकों और पारखी लोगों के भरोसे को दर्शाता है।

एक नए आर्टिस्ट रीसेल रॉयल्टी फ्रेमवर्क को पेश करने के अग्रणी कदम के बारे में जानकारी देते हुए, नेविल टुली, चीफ मेंटर, डीरिवाज़ एंड आइव्स ने कहा, “यह भारतीय कला के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, एआरआर सुनिश्चित करता है कि कलाकारों या उनके कानूनी उत्तराधिकारियों को सेकेंडरी पब्लिक ऑक्शन सेल में उनके काम के लिए, द्वितीयक बिक्री के मूल्य के आधार पर 4% से 2% तक वित्तीय क्रेडिट दिया जाए। भुगतान का अधिकार निर्माता/कलाकार की मृत्यु के बाद कॉपीराइट अवधि के लिए बना रहेगा।

DI.01-S.H.-Raza-lot9-1960-Village (P 501)-Oil on canvas-29.972×57.658cm

उन्होंने आगे कहा, “कलाकारों को अपने शिल्प को विकसित करने में दशकों लग जाते हैं। उनमें से एक बहुत छोटा अनुपात जीवित रहते हुए अपना उचित वित्तीय सम्मान प्राप्त करता है। केवल उनकी कोई एक ही प्राथमिक बाजार बिक्री ही उन्हें आर्थिक रूप से पुरस्कृत करती है।

आधुनिक कला की जननी फ्रांस ने सौ साल पहले रीसेल रॉयल्टी की अपनी द्रोइट डी सूट प्रणाली की स्थापना की, हालांकि उसके बाद से केवल कुछ अन्य देशों ने उसका अनुसरण किया है, जैसे कि यूएसए और यूके। डीरिवाज़ एंड आइव्स का एआरआर का भुगतान करने का निर्णय दूसरों को प्रोत्साहित करेगा और भारत को एक अधिक न्यायपूर्ण और परिपक्व वैश्वीकरण कला बाजार की ओर ले जायेगा।”

यह देखना दिलचस्प होगा कि अन्य कलाकार जैसे संगीतकार, थिएटर कलाकार, गायक, लेखक आदि इस पर क्या प्रतिक्रिया दे रहे हैं। वास्तव में, यह एक नवाचार है जो कई लोगों के जीवन को प्रभावित करेगा।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen − 14 =