कांग्रेस-वाम का गठजोड़ पलटेगा 2021 के चुनाव में बाजी : अधीर

फोटो, साभार : गूगल

कोलकाता : बंगाल के प्रदेश कांग्रेस बनने के बाद से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी खासा उत्साहित हैं। अधीर रंजन चौधरी ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी का वाम दलों के साथ गठजोड़ 2021 के विधानसभा चुनावों में बाजी पलटने वाला होगा। उन्होंने सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और बीजेपी को भी चेताया है कि उनके लिए मुकाबला आसान नहीं होने वाला है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के आलोचक अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि उनका ध्यान टीएमसी और बीजेपी के वोट प्रतिशत में सेंध लगाने और प्रदेश की धर्मनिरपेक्ष छवि को बहाल करने पर होगा। यह पूछे जाने पर कि क्या त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में कांग्रेस टीएमसी को समर्थन देगी, चौधरी ने इसपर टिप्पणी करने से इनकार करते हुए कहा, ‘काल्पनिक सवालों का जवाब तभी दिया जा सकता है, जब ऐसी जरूरत पड़े।’

प्रदेश में 1967 के विधानसभा चुनावों में आखिरी बार यह स्थिति बनी थी जब किसी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था और तब बांग्ला कांग्रेस और सीपीएम ने सरकार बनाने के लिए हाथ मिलाया था। टीएमसी सरकार की तुष्टिकरण की राजनीति को बंगाल में बीजेपी के उदय के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए चौधरी ने कहा कि वह विपक्षी खेमों में चले गए पार्टी के पुराने नेताओं को वापस लाकर पार्टी को मजबूत करने का प्रयास करेंगे।

चौधरी ने कहा, ‘बंगाल को हमेशा से उसकी धर्मनिरपेक्षता के लिए जाना जाता है। पिछले कुछ वर्षों में टीएमसी और भाजपा दोनों ने हालांकि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की राजनीति को आगे बढ़ाया है और राज्य को हमेशा से प्रिय रहे धर्मनिरपेक्षता के आदर्शों को ग्रहण लगाया है।’ उन्होंने कहा, ‘मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि वाम मोर्चा-कांग्रेस का गठजोड़ बंगाल की राजनीति में बाजी पलटने वाला साबित हो सकता है। साल 2019 के लोकसभा चुनावों से अलग, मैं 2021 के विधानसभा चुनावों को टीएमसी और बीजेपी के लिए आसान नहीं होने दूंगा।’

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + 8 =