सनातन, शर, न ही शमशीर या गन-तन्त्र से हारा
न ही यह राक्षसी उत्पात, काले मन्त्र से हारा
रहा परतन्त्र सदियों तक, पराजय, पर नहीं मानी
मगर गणतन्त्र के रणक्षेत्र में षड्यन्त्र से हारा

डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 6 =