डीपी सिंह की रचनाएं…

नैन गड़ाइ न ढूँढ़ि सकै कहुँ अन्धन हाथ बटेर लगावै
दीन मलीन दसा कतहूँ कहुँ रत्न चतुर्दिक ढेर लगावै
भाग मिला जस पाइ रहै नर जानत-मानत देर लगावै
राम बसैं हिय में अपने पर मन्दिर मन्दिर टेर लगावै

–डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − six =