डीपी सिंह की रचनाएं

श्याम तन पर विविध रङ्ग – रोली सखी
छवि है मनमोहिनी, कितनी भोली सखी
सीय सखियों से बोलीं, चलो घेर कर
सङ्ग रघुबर के खेलेंगे होली सखी

–डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

8 + thirteen =