कोलकाता। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के वरिष्ठ अधिकारियों सहित 41 लोगों को करोड़ों रुपये के कोयला चोरी घोटाले में पश्चिम बंगाल के आसनसोल की एक अदालत में दायर आरोप पत्र में नामजद किया। सीबीआई के एक बयान के अनुसार, आरोपपत्र में जिन अन्य लोगों का उल्लेख है, उनमें निजी कंपनियां और सीआईएसएफ और रेलवे के “अज्ञात अधिकारी” शामिल हैं।

बयान में कहा गया, “उन्होंने एक साजिश के तहत ईसीएल के प्रभुत्व के तहत पट्टाधारक क्षेत्रों के कोयला भंडार और रेलवे पार्किंग में पड़े कोयला भंडार का भी धोखाधड़ी से बिक्री और आपूर्ति के लिए दुरुपयोग किया।” बयान के अनुसार, “उक्त आरोपी ने उक्त निजी व्यक्ति से रिश्वत के रूप में बड़ी और नियमित नकद राशि के रूप में अनुचित लाभ प्राप्त किया और ईसीएल लीजहोल्ड क्षेत्र से कोयले के दुरुपयोग की सुविधा प्रदान की। इस तरह अवैध कोयला सिंडिकेट को अनुचित संरक्षण प्रदान किया।”

बता दे कि इससे पहले सीबीआई ने पश्चिम बंगाल में कोयला तस्करी घोटाले के सिलसिले में ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (ईसीएल) के एक सेवारत महाप्रबंधक सहित सात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया। सीबीआई सूत्रों के अनुसार, सुबह से ही उनके जासूस ईसीएल के सात कर्मचारियों से मैराथन पूछताछ के रूप में पूछताछ कर रहे हैं। हालांकि, उनके दावों में कई विरोधाभास थे।

जिसके कारण सीबीआई के भ्रष्टाचार विरोधी जांचकर्ताओं द्वारा उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। हिरासत में लिए गए लोगों में ईसीएल के पूर्व महाप्रबंधक ए मलिक और ईसीएल के वर्तमान प्रबंधक मुकेश कुमार भी शामिल हैं। पश्चिम बंगाल कोयला तस्करी मामले की जांच सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा की जा रही है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × one =