बर्फीली रात, अयोध्या के पास !!

0
तारकेश कुमार ओझा : अदालती फैसले के बहाने 6 दिसंबर 1992 की चर्चा छिड़ी तो दिमाग में 28 साल पहले का वो वाकया किसी...

खड़गपुरिया चाय, सत्ता के रसगुल्ले और अमर सिंह …!!

0
तारकेश कुमार ओझा,  खड़गपुर : जिस तरह मुलायम सिंह यादव हैं उसी तरह पहले अमर सिंह चौधरी हुआ करते थे। राजनीति में पदार्पण के...

चित्रकारी में चैन तलाशती कोलकाता की अनिता कुमारी

0
तारकेश कुमार ओझा, कोलकाता : पूत के पांव पालने में नजर आते हैं। वहीं बेटियाँ की बोली और बुद्धिमत्ता से उसके भावी जीवन की...

रेलनगरी खड़गपुर की सांस्कृतिक धरा को सींच रही कीतिका झा

0
तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : आम बोलचाल में लेबर टाउन कहे जाने वाले खड़गपुर में कीतिका झा कम उम्र में ही सांस्कृतिक अलख जगाने...

अब कौन सा दांव चलेंगे खड़गपुर के “आडवाणी”,  देवाशीष चौधरी !!

0
तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : इन्हें आप खड़गपुर की  राजनीति का 'लाल कृष्ण आडवाणी' भी कह सकते हैं। नाम है देवाशीष चौधरी। सभासद, पार्टी...

क्या गुरु ..! फिर लॉकडाउन…??

0
तारकेश कुमार ओझा : जो बीत गई उसकी क्या बात करें लेकिन जो बीत रही है उसे अनदेखा भी कैसे और कब तक करें।...

कोरोना पर विशेष : ट्रेनें चलें तो पूरे हों कसमें-वादे …!!

0
तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : कितने लोग होंगे जो छोटे शहर से राजधानी के बीच ट्रेन से डेली-पैसेंजरी करते हैं ? रेलगाडियों में हॉकरी...

कोरोना विशेष : गरीबों का लक अनलॉक कैसे होता है साहब…!!

0
तारकेश कुमार ओझा : कोरोना काल में  दुनिया वाकई काफी बदल गई। लॉक डाउन अब अनलॉक की ओर अग्रसर है, लेकिन इस दुनिया में ...

यादें : ऐसे भी कोई जाता है भला …!!

0
तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : उस रात शहर में अच्छी बारिश हुई थी। इसलिए सुबह हर तरफ इसका असर नजर आ रहा था। गोलबाजार...

बासु चटर्जी : आम आदमी की जिंदगी को संजीदगी से रूपहले पर्दे पर उतारा

0
कोलकाता : हिंदी सिनेमा में मार-धाड़ के दौर में मानवीय संवेदनाओं की सरल कहानियों को बेहद सादगी से रुपहले पर्दे पर उतारने वाले निर्देशक...

विशेष

युवा मंच