देश के सबसे बड़े हिंदी पट्टी यूपी में ही हिंदी कमजोर

आज कलम के जादूगर, उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद जी की जयंती पर बहुत ही दुःख

1 Comments

राजनीतिक पहचान के लिए भटकता बिहार का दलित पान समाज

एक सभ्य समाज के लोगों में सामाजिक और राजनीतिक चेतना का होना बहुत ही जरूरी

सवाल उल्टे – सीधे जवाब सीधे सच्चे

पहला सवाल :- भाजपा नेताओं को लॉक डाउन के नियम से छूट कैसे है। क्या

सावधान दोस्तों ! मुश्किल दौर में है  देश …!!

वाकई, यह बड़ा मुश्किल दौर है दोस्तों। चौतरफा मुसीबतें देश को घेरती जा रही है,

कभी खुद को भी देखो दर्पण में 

उसने क्या किया किस किस ने क्या किया सब की बात कहते हैं खुद तुमने

गुनाहगार का क़त्ल, इंसाफ़ का जनाज़ा

जो दवा के नाम पे ज़हर दे , उसका क़ातिल ही उसका मुंसिफ़ है ,

ज़िंदगी से खिलवाड़ कब तक

शायद अभी भी देश की सरकार राज्यों की सरकारों को समस्या की जड़ तक पहुंचने

जाने कहां खो गए ऐसे लोग

नहीं आज उनका किसी का भी कोई जन्म दिन नहीं है न ही उनकी निजि

क्या आप जानते हैं, विचार करें ।।

नामुमकिन कुछ भी नहीं है अच्छे दिन लाना भी मुमकिन था मगर अच्छे दिन लाने

ख़ुदकुशी पर गंभीर चिंतन

क्या आप भी कहोगे कायर लोग ख़ुदकुशी करते हैं क्या आप हौंसला रखते हैं जान