बंगाल भर्ती घोटाला: CBI ने बताया कैसे प्रश्नपत्रों से छेड़छाड़ कर की गई धांधली

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में विभिन्न नगरपालिकाओं में भर्ती घोटाले के मामले में इस महीने की शुरुआत में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने आरोपपत्र दाखिल किया है। इस आरोपपत्र में सीबीआई ने विस्तार से बताया है कि भर्ती में अनियमितताएं कैसे शुरू हुईं और कैसे इसे अंजाम दिया गया।

सूत्रों के अनुसार, पहले संदेह तब उत्पन्न हुआ जब यह पाया गया कि विभिन्न ग्रेड के पदों की लिखित परीक्षा के लिए एक जैसे प्रश्न पूछे गए थे। ग्रुप सी और ग्रुप डी के पदों के लिए पूछे गए प्रश्न 100 प्रतिशत समान थे, जो कि किसी भी पेशेवर तरीके से आयोजित भर्ती परीक्षा के लिए असंभव है।

प्रश्न पत्र पैटर्न पर संदेह

दूसरा संदेह तब उत्पन्न हुआ जब प्रश्नों के पैटर्न का विश्लेषण किया गया। जांच में यह स्पष्ट हुआ कि प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए प्रश्न पत्र तैयार करने में विशेषज्ञता और अनुभव रखने वाली किसी भी विशेषज्ञ आउटसोर्स एजेंसी द्वारा कोई पेशेवर तैयारी नहीं की गई थी।

पूछताछ के दौरान जांच से पता चला कि विभिन्न पदों के लिए प्रश्न पत्र तैयार करने का कार्य किसी विशेषज्ञ एजेंसी को देने के बजाय निजी प्रमोटर अयन शील की मालिकाना हक वाली एजेंसी को दिया गया था। शील नगर पालिका और स्कूल नौकरियों की भर्ती घोटालों का मुख्य अभियुक्त है।

अयन शील की गिरफ्तारी और जांच

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने स्कूल में नौकरी दिलाने के मामले में संलिप्तता के संबंध में पिछले साल मार्च में अयन शील को गिरफ्तार किया था। वह पहले से ही न्यायिक हिरासत में है। पिछले साल, ईडी ने शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच करते हुए शील और उसकी कंपनी के बीच संबंध का पता लगाया।

इसके बाद उनके आवास पर छापेमारी और तलाशी अभियान चलाया गया, जिससे नगर पालिकाओं की भर्ती में अनियमितताओं का पर्दाफाश हुआ। CBI और ED अब इस मामले में आगे की जांच कर रहे हैं, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि दोषियों को उचित सजा मिले और भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे कोलकाता हिन्दी न्यूज चैनल पेज को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। एक्स (ट्विटर) पर @hindi_kolkata नाम से सर्च करफॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *