कोलकाता। बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्से में चक्रवातीय परिसंचरण क्षेत्र बनने से पश्चिम बंगाल के गांगेय क्षेत्र में भारी वर्षा हुई। इस मौसम प्रणाली के कारण कोलकाता समेत दक्षिण बंगाल के जिलों में मंगलवार से मूसलाधार बारिश हो रही है तथा एक-दो स्थानों पर बेहद भारी बारिश हुई। मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा कि बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्से में चक्रवातीय परिसंचरण क्षेत्र बनने से राज्य के दक्षिणी हिस्से में गांगेय पश्चिम बंगाल में बृहस्पतिवार तक भारी वर्षा होगी। दक्षिण बंगाल के ज्यादातर जिलों में 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी-तूफान चलने एवं भारी वर्षा होने की संभावना है।

उसने कहा कि सुंदरवन के आखिरी छोर पर स्थित कैनिंग शहर में सुबह साढ़े आठ बजे तक पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक 169 मिलीमीटर (मिमी) वर्षा हुई है जबकि पुरुलिया एवं बर्दवान में क्रमश: 32 मिमी और 30 मिमी बारिश दर्ज की गयी। विभाग के अनुसार इस दौरान उत्तरी बंगाल के कलीमपोंग में 33 मिमी एवं दार्जिलिंग में 16 मिमी वर्षा हुई है।

देशभर के कई राज्यों में जारी मानसून के दूसरे चरण में भी भारी बारिश हो रही है। अनुमान से ज्यादा बारिश होने से ओडिशा (Odisha), मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh), राजस्थान (Rajasthan) में लोगों की मुसीबतें एक बार फिर बढ़ गई हैं। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने आने वाले कुछ दिनों के लिए उन राज्यों के लिए अलर्ट जारी किया है, जहां भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen − 17 =