कोलकाता : ममता बनर्जी ने कुछ तृणमूल शासित नगरपालिकाओं के कामकाज पर असंतोष जताते हुए कहा कि लोगों के साथ खड़े रहने की जरूरत है। कई शिकायतें हैं कि राजनीतिक लोग लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए उपलब्ध नहीं रहते हैं। फोन बंद रहता है या उठाते नहीं है, ऐसा नहीं चलेगा। ऐसा करने वाले नगरपालिका में काम नहीं करने वालों की होगी छुट्टी, प्रत्येक वार्ड में नियुक्त होंगे आब्जर्वर, ममता बनर्जी ने किया ऐलान।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उत्तर 24 परगना में नगरपालिका के काम पर असंतोष जताते हुए प्रशासकों को फटकार लगाई और साफ कहा कि अच्छा नहीं करने वालों को भविष्य में सोचना होगा। उन्होंने प्रत्येक नगर पालिका में एक पर्यवेक्षक नियुक्त करने के भी निर्देश दिए। पर्यवेक्षक काम के रिकॉर्ड इकट्ठा करने और आम जनता से बात करने के लिए शहर भर में घूमेंगे। एक पार्षद कैसा कर रहा है, इस पर नजर रखेंगे, वह रिपोर्ट मुख्यमंत्री के पास जाएगी। ममता बनर्जी बुधवार को मध्यमग्राम में नजरूल शताब्दी सदन में आयोजित प्रशासनिक बैठक में ये बातें कहीं।

ममता बनर्जी ने कहा कि लोगों के साथ खड़े रहने की जरूरत है। कई शिकायतें हैं कि राजनीतिक लोग लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए उपलब्ध नहीं रहते हैं। फोन बंद रहता है या उठाते नहीं है, ऐसा नहीं चलेगा। राजनीति में लोगों को सुबह 10 बजे से रात 10 बजे तक जनता के साथ रहना होता है। मुख्यमंत्री के निर्देश दिया कि लाइट, पानी और सड़कों को दुरुस्त रखना प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया है कि वह बैरकपुर, टीटागढ़, कमरहट्टी, नोआपाड़ा और उत्तरी दमदम सहित जिले की कई नगर पालिकाओं के काम से खुश नहीं हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरपालिका क्षेत्र में कई समस्याएं हैं। आपको काम करने के लिए अनुमति की आवश्यकता नहीं है। आप क्षेत्र के कार्यों को महत्व क्यों नहीं दे रहे हैं?

मुख्यमंत्री ने प्रत्येक नगर पालिका में एक पर्यवेक्षक नियुक्त करने के निर्देश दिए। पर्यवेक्षक पार्षदों के काम पर नजर रखेंगे। समस्या कहां है, यह जानने के लिए क्षेत्र के आम लोगों से बात करें। उसके बाद आप कार्य को बहीखाता के साथ रिपोर्ट करेंगे। साथ ही मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के विधायकों और सांसदों से अच्छे संबंध बनाए रखने का संदेश भी दिया। उन्होंने कहा कि राजनेता फोन पर उपलब्ध नहीं हैं, मुझे इस तरह के आरोप मिले हैं। लोग आपके फोन पर क्यों नहीं आते? इतना समय लगा है। इस बार लोगों की सेवा करो।”

इस सिलसिले में विधाननगर नगर पालिका के अंतर्गत चिंगरीघाटा चौराहे पर कई बार हादसों की चर्चा थी। मुख्यमंत्री ने पूछा, चिंगरीहाटामें आए दिन हादसे क्यों हो रहे हैं? कोलकाता पुलिस और विधाननगर पुलिस कमिश्नरी के बीच ‘अहंकार’ की लड़ाई का शिकार जनता क्यों हो? उन्होंने पुलिस को आपस में गलतफहमी दूर करने का निर्देश दिया। ममता बनर्जी ने स्पष्ट निर्देश दिए कि चिंगरीहाटा क्षेत्र में और कोई दुर्घटना नहीं होनी चाहिए।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × one =