कोरोना के कारण अनिश्चितकाल के लिए बंद हुआ बेलूर मठ

कोलकाता : कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर रामकृष्ण मिशन का मुख्यालय बेलूर मठ को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया। बेलूर मठ की ओर से रविवार शाम एक नोटिस जारी की गई। नोटिस के मुताबिक बेलूर मठ फिलहाल अनिश्चितकाल के लिए बंद है। अधिसूचना में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि आप सभी की जानकारी के लिए बताया जा रहा है कि सरकार द्वारा अगली सूचना तक बेलूर मठ के परिसर को प्रशंसकों और आगंतुकों के लिए बंद रखने का निर्णय लिया जा रहा है। यह निर्णय पश्चिम बंगाल सरकार के 2 जनवरी के कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुसार लिया गया है।

उल्लेखनीय है कि पहले पदाधिकारियों ने 26 दिसंबर को एक बयान में बेलूर मठ को बंद करने की घोषणा की थी। कहा गया था कि अपरिहार्य कारणों से मठ में 1 जनवरी से 4 जनवरी 2022 तक चार दिनों तक श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक रहेगी। हालांकि राज्य में आंशिक लॉकडाउन लागू होने के बावजूद तारापीठ मंदिर को बंद नहीं किया जा रहा है। रविवार को तारापीठ मंदिर समिति के अध्यक्ष तारामय मुखर्जी ने कहा, “अभी-अभी खबर आई है कि राज्य में लॉकडाउन जारी किया गया। इसलिए अभी कुछ कह पाना संभव नहीं है, लेकिन हम एक-दो दिन में तय कर लेंगे कि हमें क्या करना है। चूंकि तारापीठ में बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक आते हैं, इसलिए हम बैठक में फैसला करेंगे।”

इसके अलावा तारामय ने कहा, “हमने स्वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देशों के अनुसार काम किया जाएगा। मैं कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहा हूं। साल के पहले दिन अनुपालन किया गया। साथ ही मंदिर परिसर को सेनेटाइज भी किया जा रहा है। गेट पर अतिरिक्त सुरक्षा गार्ड तैनात किए गए हैं। इसके अलावा माइकिंग के लिए भी अनुरोध किया गया है।”

नबान्न द्वारा रविवार को लगाए गए प्रतिबंधों में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि स्विमिंग पूल, स्पा, जिम और ब्यूटी पार्लर 3 जनवरी से बंद रहेंगे। राज्य के सभी पर्यटन केंद्र बंद रहेंगे। स्कूल-कॉलेज यूनिवर्सिटी भी बंद है। प्रशासनिक कार्य 50 प्रतिशत अधिकारी ही करेंगे।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + ten =