कोलकाता। कोरोना वायरस संक्रमित लोगों के नमूनों के जीनोम अनुक्रमण से पता चला है कि ओमीक्रोन के उपस्वरूप बीए.4 और बीए.5 के कारण इस साल की शुरुआत में संक्रमण के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई। राज्य स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। विशेषज्ञों के मुताबिक, राज्य में संक्रमण के मामलों में हालिया वृद्धि के लिए वायरस का उपस्वरूप बीए.5 जिम्मेदार रहा।

निदेशक (स्वास्थ्य सेवाएं) सिद्धार्थ नियोगी ने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में हम संक्रमण की पुष्टि वाले नमूनों का जीनोम अनुक्रमण कर रहे हैं। कुछ में ओमीक्रोन का उपस्वरूप बीए.4 और बीए.5 पाया गया है। हालांकि, घबराने जैसे हालात नहीं हैं। उपस्वरूप बीए.5 तेजी से फैलता है लेकिन यह अधिक घातक नहीं है।’’उन्होंने कहा, ‘‘ नमूनों के नतीजों से पता चला है कि उपस्वरूप बीए.5 धीरे-धीरे बीए.2 की जगह ले रहा है।’’

इस बीच, बेलियाघाट स्थित ‘आईडी एंड बीजी’ अस्पताल में सूक्ष्मजीव विज्ञान विभाग की सहायक प्रोफेसर खेया मुखर्जी ने बंगाल में संक्रमण के मामलों में हालिया वृद्धि के लिए उपस्वरूप बीए.5 को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि राज्य में अगले कुछ सप्ताह में संक्रमण के मामलों में और अधिक वृद्धि हो सकती है क्योंकि उपस्वरूप बीए.2 की तुलना में उपस्वरूप बीए.5 बेहद तेजी से फैलता है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − 1 =