अमित शाह का ममता को पत्र, श्रमिक ट्रनों को मंजूरी नहीं देने का लगाया आरोप

फोटो, साभार : गूगल

कोलकाता : ममता सरकार और केन्द्र के बीच का विवाद जारी है। अब केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ममता बनर्जी को पत्र लिख कर प्रवासी मजदूरों के लिए चलाई जाने वाली ट्रेन को लेकर बड़ा आरोप लगाया है। शाह ने आरोप लगाया है कि अन्य राज्यों के मजदूरों के लिए चलाई जाने वाली श्रमिक ट्रेनों को ममता सरकार मंजूरी नहीं दे रही है। अमित शाह ने कहा है कि केंद्र सरकार प्रवासी मजदूरों को भेजने की व्यवस्था कर रही है लेकिन बंगाल सरकार केंद्र सरकार का सहयोग नहीं कर रही है।

बता दें कि केन्द्र सरकार प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों में पहुंचाने के लिए श्रमिक ट्रेन चला रही है। अब तक करीब दो लाख प्रवासी मजदूरों को उनके राज्य पहुंचाया जा चुका है। केंद्रीय गृह मंत्री ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि पश्चिम बंगाल सरकार इस मामले में केंद्र को बिल्कुल सहयोग नहीं कर रही है।

पश्चिम बंगाल में जो प्रवासी मजदूर मौजूद हैं वह अपने राज्य जाना चाहते हैं। मजदूरों के पश्चिम बंगाल से उनके गृह जनपद और राज्यों तक पहुंचाने की व्यवस्था भी केंद्र सरकार द्वारा की गई है लेकिन पश्चिम बंगाल सरकार इस मामले में केंद्र को कोई सहयोग नहीं दे रही है जिसका बेहद दुख है।

उल्लेखनीय है कि देशभर में कोरोना का कहर जारी है। पिछले 24 घंटे में एक बार फिर से तीन हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 3320 नए मामले सामने आए हैं और 95 लोगों की मौत हुई है। शनिवार को जारी केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर करीब 60 हजार यानी 59662 हो गए हैं।

कोरोना से अब तक 1981 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना के कुल 59662 केसों में 39834 सक्रिय केस हैं, वहीं 17847 लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है या फिर वह ठीक हो चुके हैं। कोरोना वायरस से अब तक सर्वाधिक 731 लोगों की मौत महाराष्ट्र में हुई। यहां अब इस महामारी से पीड़ितों की संख्या 19063 हो गई है।

Shrestha Sharad Samman Awards

1 COMMENT

  1. Aaj hum log 22.3.2020se 30 admi fase huye Hai humne Har jagah helpline number pe bat ki lekin mujhe koi sahayta nahi mili hum logo ko sultanganj dist bhagalpur Jana hai atah aap se gujaris Hai ki mujhe mere paribar balo ko mere ghar bhejne ka koi upai Kiya jaye

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen − 10 =