पाड़ाय शिक्षालय के बाद बंगाल में अब प्राथमिक विद्यालय खोलने की हो रही तैयारी!

कोलकाता। बंगाल में कोरोना महामारी के मामलों में कमी दर्ज की जा रही है। महामारी में कमी के बाद पश्चिम बंगाल में कक्षा आठवीं से 12वीं तक के स्कूल खोल दिये गए हैं। पांचवीं से लेकर सातवीं कक्षा तक ‘पाड़ाय शिक्षालय’ में बच्चों की पढ़ाई शुरू हुई है। अब पश्चिम बंगाल सरकार बंगाल में प्राथमिक स्कूलों को भी खोलने की तैयारी कर रही है। सीएम ममता बनर्जी ने गुरुवार को नेताजी इंडोर स्टेडियम में शरणार्थियों को जमीन का पट्टा देने के लिए आयोजित कार्यक्रम के दौरान कहा कि यदि कोविड की समस्या नहीं होगी, तो प्राथमिक स्कूलों को 50 फीसदी कर खोला जाएगा या नहीं।

इस बारे में स्कूल प्रबंधन से बातचीत कर फैसला लिया जाएगा। बंगाल में आठवीं से लेकर 12वीं तक स्कूल खोले जा चुके हैं और मोहल्ले में भी कक्षाएं चल रही हैं।ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य सरकार के सभी शरणार्थी कॉलोनी को मजंरी दी गई है। सभी को जमीन का पट्टा दिया जाएगा। केंद्र सरकार की जमीन और निजी जमीन पर बसे शरणार्थियों को हटाया नहीं जाएगा। इस बारे में कानून बनाया गया है। तीन साल में 27 हजार से ज्यादा पट्टा वितरित किया गया है। मतुआ को भी पट्टा मिलेगा। किसी का भी उन्मूलन करने नहीं दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मां-बहनों, आदिवासी, अल्पसंख्यक, अनुसूचित जाति और जनजाति पर अत्याचार हो रहा है। चुनाव आने पर कुछ लोग साधु का ड्रेस पहनकर आ जाते हैं। साधु कौन होता है, जो सभी कुछ त्याग करना जानते हैं। किसान कितने दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। उन्हें न्यूनतम कीमत नहीं मिल रहा है। एयर इंडिया की बिक्री कर दी गयी है। कोल इंडिया बिक्री कर रहे हैं। देश ही बिक्री हो जाए, तो देश की जनता कैसे बचेगी? ये लोगों को अधिकार नहीं देते है। एनसीआर और एनपीआर के नाम पर अधिकार छीन लेते हैं।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 16 =